फूल और छोटे फलों का गिरना

फूल और छोटे फलों का गिरना

समस्या

मेरे पास दो वैराईटी है। कागजी निम्बू 4 साल के है और देशी 3 साल के है। फूल या तो  आते नहीं अगर थोड़े बहुत आ भी गए तो फल बनने पर गिर जाते है। जो नई शाखाएं निकलती है वह काली पड़ कर सूख जाती है। कुछ पत्ते भी सिकुड़ रहे है।

 

यह कागजी निम्बू की समस्या है। छह महीने पहले देशी खाद डाला था, कोई दवा नही डाली कोई छिड़काव नहीं किया। 

सुझाव

आपके पौधे ठीक है। सबसे पहले इनमे पानी दीजिए। फिर 3 दिन बाद नीचे लिखी चारो चीजें बताई गई मात्रा के अनुसार ले।

  1. Boron (1gm/litre) – यह एक आवश्यक सूक्ष्म तत्व है जिसकी मात्रा ज़मीन में बहुत कम मिलती है इसलिए फलदार पौधों जैसे नींबू और अमरूद में इसकी कमी अधिकतर देखी जाती है। पौधों में बोरोन की कमी से नई पत्तिया  मोटी हो जाती है। नए कल्लो के पास पत्तियां और तना बहुत कमजोर होने के कारण आसानी से टूट जाता है। इसलिए पौधों पर बोरोन का स्प्रे बहुत आवश्यक है। इफको इसको डाई सोडियम टेट्रा बोरेट पेंटा हाइड्रेट के नाम से बनाता है जिसमें 14.5% बोरोन होता है। यह पानी में पूर्ण घुलनशील है। इसे स्प्रे करने वाले उर्वरकों जैसे 19 19 19 NPK के और दूसरे सूक्ष्म तत्वों जैसे चेलाटेड ज़िंक के साथ मिलाकर भी स्प्रे कर सकते है।
  2. Chelated Zinc (2gm/litre) – यह एक आवश्यक सूक्ष्म तत्व है जो EDTA Zinc के नाम से भी आता है। यह पानी में पूर्ण घुलनशील है और इसका प्रयोग स्प्रे द्वारा किया जाता है। इसे स्प्रे करने वाले उर्वरकों जैसे 19 19 19 NPK के और सूक्ष्म तत्वों जैसे बोरोन के साथ मिलाकर भी स्प्रे कर सकते है।
  3. Avtaar (2.5gm/litre) – यह इंडोफिल कंपनी का एक कॉन्टेक्ट और सिस्टेमिक फंगिसाइड है जिसमें Zineb 68% + Hexaconazol 4% WP होता है और यह  100 gm, 250 gm, 500 gm and 1 kg के पैक में मिलता है।
  4. Fipronil (2ml/litre) – yeh एक यह एक रासायनिक कीटनाशक है जो नींबू में थ्रिप्स की रोकथाम में प्रयोग किया जा सकता है। इसे भी घुलनशील उर्वरकों या सूक्ष्म तत्वों के साथ मिलाकर स्प्रे कर सकते है। 
  5. शैंपू का पाउच एक रुपए वाला प्रति टंकी – यह स्टिकर का काम करता है जिससे दवाई पत्तों और कीटों पर चिपक जाता है इसलिए दवाई का असर अधिक होता है।

दवाई की मात्रा

एक 15 लीटर की टंकी के लिए आपको दवाइयों की यह मात्रा चाहिए।

  1. बोरोन 15 ग्राम
  2. Chelated Zinc 30 ग्राम
  3. अवतार 40 ग्राम
  4. Fipronil 30 ml
  5. 1 रुपए वाला शैंपू का पाउच

दवाई तैयार करें

सबसे पहले एक लीटर पानी ले। इसमें चारों दवाएँ बताई गई मात्रा के अनुसार ले और अच्छी तरह मिला ले। अब टंकी में 14 लीटर पानी भरे। इसमें शैंपू का पाउच डाले और लकड़ी से चलाए। अब इसमें एक लीटर दवाई वाला पानी डालकर डंडी से चलाए और स्प्रे करें।

संदर्भ

अमेजिंग किसान ग्रुप के अनुभवी किसानों द्वारा सुझाए गए उपायों पर आधारित।

*************

Disclaimer:  इस लेख में बताये गए सभी उपाय विभिन्न किसानों द्वारा अपनाई गई सफल विधियों पर आधारित हैं परन्तु इनकी वैज्ञानिक पुष्टि हमारे द्वारा नहीं की जा सकती। पाठकों द्वारा किये जाने वाले प्रयोग हमारे नियंत्रण से बाहर है इसलिए अगर किसी का किसी कारण से कोई नुक़सान होता है तो ‘अमेजिंग किसान’ या लेखक इसके लिए जिम्मेदार नहीं होगें।

डाउनलोड करें